Subdomain Kya Hota Hai I Top 03 Secrets ( what is Subdomain in Hindi)

Subdomain Kya Hota hai

जैसा की हम भली भांति जानते है की आज के आधुनिक युग में हमारा जीवन और हमारी जीवन  शैली बहुत हद तक ,Technology, विज्ञान, आधुनिकरण जैसे सिधान्तो के इर्द गिर्द घूमती रहती है। इन सब चीज़ो के बिना मनुष्य के जीवन की कल्पना करना मुश्किल है। क्युकी Computer, Internet विज्ञान ये सब किसी न किसी तरीके से हमारे जीवन से जुड़ चुके है।

उदाहरण के लिए Computer और Internet को ही ले सकते है. मनुष्य Computer और इंटरनेट की सहायता से अपने हजारो कार्य सफलतापूर्वक कर पा रहा है जैसे ,व्यापार सम्नब्धी कार्य ,शिक्षा सम्बन्धी कार्य आदि. आज हम अपने इस पोस्ट subdomain kya hota hai (what is Subdomain in Hindi)  माध्यम से ऐसी ही Internet और Website से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी आपसे शेयर करेंगे जो आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हो सकती है।

Subdomain

Subdomain की परिभाषा :- किसी भी वेबसाइट का एक Domain नाम होता है इसके अतिरिक्त डोमेन बनाये जाते है उन अतिरिक्त डोमेन्स को Subdomains कहा जाता है.

Read This Also:-SOCIAL MEDIA In Hindi

Subdomain kya hota hai और इसको कैसे बनाते है

सरल भाषा में समझाया जाये तो किसी भी Website का जो मुख्य Domain होता है, उसके Additional भाग को Subdomains कहा जाता है. Subdomains को बनाने का मुख्य कारण वेबसाइट की सही ढंग से व्यस्वस्था के लिए तथा इन सब्डोमैन्स की सहायता से कोई भी यूजर अथवा विजिटर Website के अलग- अलग Sections में आसानी से पहुँच सकता है। इन Subdomains के कारण Website सुव्यवस्थित भी रहती है और विजिटर को वेबसाइट पर उपलब्ध कंटेंट को ढूंढने में भी कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ता है.

आप अपनी वेबसाइट पर अपनी इच्छा के अनुसार मल्टीपल Subdomains अथवा चाइल्ड डोमेन्स बना सकते है। उदहारण के लिए :- kahani.yourwebsite.com

इस उदाहरण में  kahini इस website का subdomain है, your website प्राइमरी domain है .COM इस website का top level domain है जिसको (TLD) भी कहा जाता है. आप अपने subdomain को किसी भी टेक्स्ट के रूप में लिख सकते है जोकि आपकी इच्छा के ऊपर निर्भर करता है की आपको क्या subdomain रखना है। मगर subdomain बनाते समय इस बात का ध्यान रखना बहुत आवश्यक की आप जो भी subdomain बनाने जा रहे हो वो आसानी से पढ़ा जा सके और समझा भी सके अन्यथा subdomain बनाना व्यर्थ हो जाता है.

Subdomain के उपयोग (use of subdomain) 

बड़ी बड़ी कंपनीज ,शिक्षण संसथान ,आर्गेनाईजेशन अपनी अपनी website को बनाते समय subdomain के बनाने पर विशेष ध्यान देते है जिनका मुख्य रूप से उपयोग कुछ इस प्रकार है.

subdomain का सबसे मुख्य और प्रचलित उपयोग किसी website के वर्जन का टेस्टिंग अथवा स्टेजिंग करना होता है। ज़्यादातर मामलो में website डेवेलपर्स और मेकर्स सर्वप्रथम जब किसी website पर कोई प्लगइन या किसी टेस्ट को करते है, तो पहले वो उसकी टेस्टिंग subdomain के ऊपर करके चेक कर लेते उसके बाद सब ठीक पाए जाने पर मैन website पर पब्लिश कर देते है.

दूसरा मुख्य उपयोग subdomain का वेबसाइट डेवेलपर्स e-commerce website बनाने अधिकतर करते हुए पाए जाते है। क्युकी इसमें बहुत सारे भिन्न-भिन्न सेक्शन होते है इसीलिए यूजर को website पर उपलब्ध कंटेंट को खोलने में कठिनाई न हो इसलिए इ-कॉमर्स website पर बहुत सारे subdomain बनाये जाते है। ज्यादातर e-commerce और दूसरी कंपनी अपने ग्राहकों से लेन-देन के लिए एक अलग subdomain को बनाना पसंद करती है क्युकी इन website का सेटअप बहुत जटिल प्रकार का होता है इसलिए इस website में अलग -अलग subdomain की आवश्यकता होती है।  

आजकल बहुत अधिक कम्पनीज अपनी मोबाइल वेबसाइट (m.mykahani.com) के लिए ,लोकेशन को दर्शाने के लिए(usa.news.com) और subdomain बनाने के लिए भी subdomain का इस्तेमाल बहुत अधिक हो रहा है. एडवांस अपडेट के साथ अब वर्डप्रेस को भी अपनी website के subdomain के रूप में इनस्टॉल किया जा सकता है.

subdomain का उपयोग website पर ग्रुप बनाने में भी किया जाता है जैसे की user.kahani.com ,guest.kahani.com आदि.

Subdomain से जुडी कुछ महतवपूर्ण 

  • किसी भी subdomain को बनाने के लिए आपको कोई अतिरिक्त शुल्क देने की आवश्यकता नहीं होता ,उसको फ्री में बनाया जा सकता है.
  • एक डोमेन के अंदर सौ subdomain तक जोड़े जा सकते है.
  • subdomain multi-level पर बनाया जा सकता है.
  • एक डोमेन के खर्चे में आप कई website चला सकते है.

subdomain कैसे बनाये (How to create a subdomain)

आप अपनी website के डोमेन रजिस्टर अकाउंट पर जाकर बहुत आसानी से subdomain को बना सकते है ,website एवं वर्डप्रेस पाए subdomain बनाने की प्रोसेस स्टेप बाई स्टेप कुछ इस प्रकार है.

STEP NO.1

bluehost पर subdomain बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपने web hosting account पर लॉगिन करना होगा,उसके बाद dashboard में बायीं और domain ऑप्शन पर क्लिक करें।

STEP NO.2

Click करने के बाद आपके सामने भिन्न भिन्न options के साथ एक sub-menu खुल जायेगा.
जिसके बाद subdomains पर क्लिक करना है , वहां पर एक प्रकार की सूची आ जाएगी। 

Subdomain 1

STEP NO.3

अगर आपके website अकाउंट पर एक ही domain register है तो आपको उसकी settings में कुछ परिवर्तन करने की आवश्यकता नहीं है‌। 

अगर आपके account में एक से अधिक domain है तो ये drop down menu में पेस्ट हो जायेगा ,जैसे हमारे उदाहरण में केवल एक ही domain है e.g yourkahani.com

STEP NO.4

अब आपको अपने subdomains का नाम डाल देना है, जिसमे आप अपनी इच्छा अनुसार कोई भी subdomains चुन सकते है जैसे स्टोर,गैलरी ,शॉप,केमिस्ट ,ब्यूटी आदि..

Subdomains डालने के बाद आपको Create के बटन पर क्लिक करना है. आपने जो subdomains चुना था वो स्क्रीन के बॉटम में प्रदर्शित होने लगता है.

STEP NO.5

आपका subdomains आपके मुख्य डोमेन के ठीक सामने प्रदर्शित होना प्रारम्भ कर देता है। जैसे की read.yourkahani.com  इसमें read हमारा subdomains है yourkahani कहानी डोमेन है। मुबारक हो आपका subdomains सफ़लतपूर्वक बन चुका है।

आज आपने क्या सीखा :- आज इस टेक्निकल और ज्ञानवर्धक पोस्ट के माध्यम से website और इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त की,जैसे कि subdomain kya hota hai ( what is Subdomain in Hindi) , इसके क्या फायदे है ,इसका कैसे उपयोग किया जाता है,subdomain कैसे बनाये आदि. एक छोटा सा दिखने वाला subdomain website को प्रोफेशनल लुक प्रदान करता है। भविष्य आप पाठकों से हमें आशा है की आप हमारी सेवाओं का लाभ लेते रहेंगे और आपका साथ हमेशा मिलता रहेगा.

Hindi Digital Trends

Hi, I'm Keshab Sarmah Founder & Writer of Hindi Digital Trends. Hindi Digital Trends is Designed to Help the Peoples who want to stay updated with the latest Technology simultaneously want to earn money online through the Genuine Way.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *